Advertisement
सभी साथी रहे देश विदेश की ताजा खबरों के साथ अपडेट तो डाउनलोड करें Google Play Store से हमारे मोबाइल एप को सभी राज्यों में एवं सभी जिलों एवं तहसीलों मैं संवाददाता बनने हेतु संपर्क करें निदेशक हरिओम शर्मा संपर्क सूत्र 9799200319,,,, 8058314720 हमसे जुड़ने के लिए सम्पर्क करें नेशनल न्यूज़ हेड :- पवन चौहान :- 09351478102,,
Saturday, May 15Tisari Aankh
Scroll news
हरियाणा की विशेष प्रभात खबरें~एक नजर* *12 अक्टूबर, 2020 सोमवार* *◼चंडीगढ़: हरियाणा में पांच साल बाद सिरे चढ़ेगी 38 स्टेशन सुपरवाइजर की भर्ती, चयन आयोग ने दिया संकेत* *◼चंडीगढ़: हरियाणा में पराली से कमाई शुरू, चीनी-पेपर मिलों को ईंधन ब्लॉक बनाकर बेच रहे किसान* *◼नई दिल्ली/चंडीगढ़: लाल डोरा मुक्त अभियान:227 गांव हो चुके लाल डोरा से मुक्त, पीएम ने की 221 गांवों को संपत्ति कार्ड देने की शुरुआत, वीसी के जरिए प्रधानमंत्री से जुड़े 6 राज्यों के मुख्यमंत्री* *◼चंडीगढ़: गुड़गांव जमीन घोटाला:ढींगरा आयोग व हुड्‌डा केस में खर्च की आधी जानकारी दी तो सूचना आयोग पहुंचे खेमका, गुड़गांव जमीन मामले में हुआ था ढींगरा आयोग का गठन* *◼चंडीगढ़- मिलावटी खाद्य पदार्थ बेचने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई: विज* *◼चंडीगढ़: प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना में हरियाणा के 221 गांवों का चयन, यह योजना हरियाणा के अलावा उत्तर प्रदेश, महाराष्ष्ट्र, उत्तराखंड व कर्नाटका में शुरू की गई है* *◼सभी तरह की लेटेस्ट विविध एवं शैक्षणिक खबरों के लिए "हरियाणा एजुकेशनल अपडेट" फेसबुक पेज ज्वाइन करें* *◼चंडीगढ़: कांग्रेस ने सुरजेवाला को ईएमसीसी का चेयरमैन बनाया, कै. अजय यादव का नाम भी शामिल* *◼कैथल- CMO निलंबन विवाद: सरकार के फैसले के विरोध में 14 अक्तूबर चिकित्सक लगाएंगे काले बिल्ले* *◼रोहतक- सीएम फ्लाइंग की रेड:रोहतक में ढाबे से 40,500 लीटर स्प्रिट पकड़ी, छोटी खेप में हरियाणा, यूपी व राजस्थान में करते थे सप्लाई, 24 गिरफ्तार* *◼चंडीगढ़- ग्रामीण स्तर पर यूथ क्लब का किया जाएगा गठन, युवाओं के सपनों को मिलेगी नई दिशा: खेल एवं युवा मंत्री संदीप सिंह* *◼चंडीगढ़: पंचायत चुनावों को लेकर शुरू की तैयारी, पानीपत-रोहतक की मतदाता सूचियां हो रही तैयार* *◼करनाल: सरकार से चौथा कानून चाहते हैं भूपेन्द्र हुड्डा, कहा- किसानों की फसल के लिए निर्धारित हो एमएसपी* *◼हिसार: अग्रोहा मेडिकल कॉलेज महत्वपूर्ण देखभाल केंद्र घोषित, कोरोना के उपचार के अलावा अन्य सेवाएं हो सकती हैं बंद* *◼सोनीपत: लोसुपा सुप्रीमो राजकुमार सैनी को पथराव की धमकी, पुलिस सुरक्षा में हेल्मेट पहनकर देना पड़ा भाषण* *◼सिरसा: 12 पंचायतों ने कलेक्टर रेट पर जमीन देने के लिए भेजा प्रस्ताव* *जयपुर :-* *राजस्थान एटीएस ने की बड़ी कार्रवाई;* आईपीएल सट्टे को लेकर हैदराबाद, दिल्ली व जयपुर समेत कई जगह रेड; 7 सट्टेबाज हैदराबाद व 7 जयपुर से दबोचे; दिल्ली मे आरोपी हुआ मौके से फरार; राजस्थान में सट्टा व्यापार हेतु इस्तेमाल किये जाने वाले कई उपकरण बरामद; *14 गिरफ्त लोगों में हैदराबाद से गणेश जालानी, पंकज सेठिया व सुरेश चलानी, जयपुर से देवेंद्र कोठारी व राजेन्द्र शेवेदकर निवासी मुम्बई शामिल;* यह गिरोह बताया जा रहा अंतरराज्यीय; पूछताछ में कुछ और बड़े नाम सामने आने की सम्भावना *Kota* *MBS अस्पताल के कोटेज वार्ड में घुसा कोबरा* कोबरा देख मरीज और कर्मचारियों के मची खलबली, स्नैक कैचर को बुलाया मौके पर, स्नैक कैचर गोविंद शर्मा ने पकड़ा कोबरा सांप *Jaipur* *त्यौहारी मौके पर 'शुद्ध के लिए युद्ध अभियान'* मिलावटी मावे की रोकथाम के लिए अभियान, आज से प्रदेशभर में चलेगा विशेष जांच अभियान, *12 से 16 अक्टूबर के बीच चलाया जाएगा अभियान* अभियान को लेकर सभी CMHO को निर्देश, हर दिन मुख्यालय को भेजनी है रिपोर्ट

सड़े गले सिस्टम ने ले ली संतोषी की जान,अब अपनी लापरवाही पर पर्दा डालने के लिए एक महिला शिकायतकर्ता  के खिलाफ लामबंद हुआ प्रशासन



TAMN नेटवर्क



 लेखक बाबूलाल नागा जयपुर से प्रकाशित पाक्षिक समाचार व फीचर सेवा विविधा फीचर्स के संपादक 



सड़े गले सिस्टम ने ले ली संतोषी की जान,अब अपनी लापरवाही पर पर्दा डालने के लिए एक महिला शिकायतकर्ता  के खिलाफ लामबंद हुआ प्रशासन



Arrow
Arrow
Slider

एक सड़े गले सिस्टम ने पहले तो संतोषी की जान ले ली और अब उसकी मौत को भूख से हुई मौत ना मान कर एक महिला शिकायतकर्ता को ही प्रताड़ित किया जा रहा है। झारखंड राज्य सरकार की एक जांच एजेंसी ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा है कि संतोषी भूख से नहीं बल्कि बीमारी से मरी थी और इस मामले को बेवजह तुल दिया जा रहा है। एजेंसी ने राशन डीलर के गुनाहों पर पर्दा डालते हुए इस पूरे मामले को सबसे पहले उजागर करने वाली स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ता तारामणि साहू को ही कसूरवार ठहराया जा रहा है। कहा है कि तारामणि साहू अपनी आपसी पारिवारिक रंजीश के चलते राशन डीलर को फंसा रही है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कारीमाटी के राशन डीलर भोला साहू और सामाजिक कार्यकर्ता चंदा देवी उर्फ तारामणि साहू के बीच पारिवारिक झगड़ा है। इस कारण तारामणि साहू ने ही इस मामले को इतना तूल दिया। हालांकि जांच रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख तो है कि संतोषी के परिवार को फरवरी के बाद से राशन नहीं मिला था पर यह नहीं माना है कि उसकी मौत भूख से हुई।



गौरतलब है कि राशन कार्ड आधार से लिंक नहीं होने के कारण झारखंड के सिमडेगा के जलडेगा प्रखंड स्थित कारीमाटी गांव की संतोषी के परिवारवालो को राशन नहीं मिल सका था जिससे 11 साल की संतोषी आठ दिनों से भूख से तड़पती रही और पिछले 28 सितंबर को उसकी मौत हो गई। संतोषी ने आठ दिन से कुछ भी नहीं खाया था। उसके घर में मिट्टी का चूल्हा था और जंगल से चुन कर लाई गई कुछ लकड़ियां भी। अगर कुछ नहीं था तो सिर्फ राशन। अगर होता, तो संतोषी आज जिंदा होती। लेकिन, लगातार भूखे रहने के कारण उसकी मौत हो गई। वह अपने परिवार के साथ कारीमाटी गांव मे रहती थी। करीब 100 घरों वाले इस गांव में कई जातियों के लोग रहते हैं। संतोषी पिछड़े समुदाय की थीं। गांव के डीलर ने पिछले आठ महीने से उन्हें राशन देना बंद कर दिया था। क्योंकि, उनका राशन कार्ड आधार से लिंक्ड नहीं था। 28 सितंबर की दोपहर संतोषी ने पेट दर्द होने की शिकायत की। गांव के वैद्य ने कहा कि इसको भूख लगी है। खाना खिला दो, ठीक हो जाएगी। पर संतोषी के घर में चावल का एक दाना नहीं था। वह भात-भात कहकर रोने लगी थी। उसके हाथ-पैर अकड़ने लगे। वह भूख से छटपटा रही थी। देखते ही देखते उसने दम तोड़ दिया। तब रात के दस बज रहे थे।



अब इस मामले से जुड़ी जलडेगा निवासी सामाजिक कार्यकर्ता तारामणि साहू को राज्य सरकार और पूरा स्थानीय प्रशासन झूठा साबित करने में तुला है जबकि इन आरोपों को तारामणि साहू नकार रही है। तारामणि से इस लेखक ने विस्तृत बात की। उन्होंने बताया कि वह 20 अगस्त को कारीमाटी गांव गई। इसी दौरान संतोषी के परिवार से मिली। उस दिन संतोषी की मां कोयली देवी ने बताया कि हमें राशन डीलर भोला साहू कई महीनों से राशन नहीं दे रहा है। तब मैंने उपायुक्त के जनता दरबार मंे 21 अगस्त को इसकी शिकायत की। 25 सितंबर के जनता दरबार में मैंने दोबारा यही शिकायत कर राशन कार्ड बहाल करने की मांग की। तब संतोषी जिंदा थी लेकिन उसके घर की हालत बेहद खराब हो चुकी थी। मैं लगातार प्रशासन से संतोषी के परिवार का राशन कार्ड बहाल करने की मांग कर रही थी लेकिन मेरी बात पर ध्यान नहीं दिया गया। और इसके महज एक महीने के बाद संतोषी की मौत हो गई। इस घटना के बाद राइट टू फूड कैंपेन कीपांच सदस्यीय टीम ने कारामाटी जाकर इस मामले की जांच की। तब संतोषी की मां कोयली देवी ने बताया कि संतोषी ने आठ दिन से भुखी थी और अंतिम समय में भी भूख के मारे तड़प रही थी और भात….भात कहते-कहते मर गई। सरकारी जांच रिपोर्ट में संतोषी की मौत भूख की बजाय मलेरिया से होने का दावा किया गया है। तारामणि साहू ने इस जांच रिपोर्ट पर सवाल उठाते हुए सिमडेगा के उपायुक्त (डीसी) पर तथ्यों को छिपाने का आरोप लगाया हैं। तारामणि ने बताया कि एएनएम माला देवी ने 27 सितंबर को संतोषी को देखा, तब उसे बुखार नहीं था। ऐसे में मलेरिया कैसे हो गया और जिस डॉक्टर ने डीसी को यह बात बताई उसकी योग्यता क्या है। तारामणि का कहना है कि इस जांच रिपोर्ट में संतोषी की मां कोयली देवी का बयान तक नहीं लिया गया। ऐसे में यह जांच रिपोर्ट ही संदेह के घेरे में है। पूरा प्रशासन अपनी लापरवाही व काले कारनामों को छुपाने के लिए जांच रिपोर्ट के नाम पर तारामणि को झूठा साबित करने में तुला है।



इस पूरे प्रकरण में झारखंड राज्य सरकार व प्रशासन की साफ लापरवाही दिखाई दी। संतोषी के परिवार के रद्द राशन कार्ड को बहाल करने की मांग तारामणि ने घटना के एक महीने पहले ही जनता दरबार में जाकर उपायुक्त को आवेदन दिया दे दिया था। इसके बाद भी संतोषी के परिवार का राशन कार्ड नहीं बन पाया और ना ही आधार कार्ड से लिंक हुआ। आज भले ही झारखंड के खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री सरयू प्रसाद ये दावा कर रहे हो कि राशन के लिए आधार कार्ड की किसी भी तरह की कोई अनिवार्यता नहीं है पर आज से सवा साल पहले जून 2016 में इन्हीं मंत्री जी ने कहा था कि जिनका आधार कार्ड नहीं है, वे इस महीने अपना आधार कार्ड बनवा लें, नहीं तो सरकार ऐसे लोगों के बने राशन कार्ड को रद्द करेगी। कम से कम राशन कार्ड में दर्ज परिवार के किसी व्यक्ति का आधार कार्ड बनवा लें नहीं तो उन्हें राशन देना भी बंद कर दिया जाएगा। आज संतोषी की भुखमरी से मौत की खबरों के बीच आधार-कार्ड से वंचित परिवारों के राशन-कार्ड रद्द करने की झारखंड सरकार की कवायद पर सवाल उठ रहे हैं और मंत्री सरयू प्रसाद अपने ही पूर्व में दिए हुए बयान को नकार रहे हैं जबकि झारखंड सरकार की वेबसाइट में दिखाया गया है कि कम से कम 10 प्रतिशत परिवार अपने भोजन राशन खरीदने में असमर्थ है। चर्चित सामाजिक कार्यकर्ता व अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज का कहना है कि झारखंड की 80 प्रतिशत राशन दुकानों में आधार आधारित राशन वितरण व्यवस्था लागू कर दी गई है। इसके कई दुष्परिणाम निकले हैं। उनके मुताबिक कहीं इंटरनेट कनेक्टिविटी के कारण लोगों को राशन नहीं मिल रहा तो कहीं लाभार्थी परिवार के मुखिया का अंगूठा बायोमेट्रिक सिस्टम में स्कैन नहीं हो पा रहा। राज्यों में जब लोग राशन की दुकान पर जाते हैं, तब वे अपने उंगलियों के निशान को स्कैन करके खुद को प्रमाणित करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। संतोषी की मौत भी इसी व्यवस्था का नतीजा है।



बहरहाल, इन सब के बीच संतोषी की मौत के बाद झारखंड सहित पूरे देश में सियासत तेज हो गई है। झारखंड सरकार अपनी जिम्मेदारी निभाने के बजाय संतोषी की मौत को बीमारी के हुई बताकर अपनी साख बचाने में लगी है। वहीं दूसरी तरफ सरकार व प्रशासन के इन झूठे हथकंडो के खिलाफ तारामणि साहू जैसी बुलंद हौसलों वाली महिला कार्यकर्ता संघर्ष कर रही हैं। और भला करें भी क्यों नहीं। आखिर संतोषी कुमारी को न्याय जो दिलाना है।

लेखक बाबूलाल नागा जयपुर से प्रकाशित पाक्षिक समाचार व फीचर सेवा विविधा फीचर्स के संपादक हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Saturday, May 15Tisari Aankh
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Breaking news
अलवर: अलवर जिले में नाबालिग बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार, 100 दिन बाद भी आरोपी खुलेआम घूम रहे है। इंसाफ नही मिलने पर राष्ट्रपति से इच्छामृत्यु की अपील। आम आदमी पार्टी पीड़ित को न्याय दिलाने, आरोपियों को फांसी की सजा के साथ ही जांच और गिरफ्तारी में हुई देरी के लिए ज़िम्मेदार अधिकारियों को बर्खास्त करने की मांग करती है। *अलवर* *भिवाड़ी में देसी और अंग्रेजी शराब बनाने का भंडाफोड़, बनाई गई अवैध शराब को शराबबंदी वाले राज्यों में किया जाता था सप्लाई, फूलबाग थाना पुलिस ने पूरी फैक्ट्री को किया सीज, पुलिस ने आरोपियों को भी किया गिरफ्तार, कुछ देर बाद पुलिस अधीक्षक करेंगे मामले का खुलासा*