Advertisement
सभी साथी रहे देश विदेश की ताजा खबरों के साथ अपडेट तो डाउनलोड करें Google Play Store से हमारे मोबाइल एप को सभी राज्यों में एवं सभी जिलों एवं तहसीलों मैं संवाददाता बनने हेतु संपर्क करें निदेशक हरिओम शर्मा संपर्क सूत्र 9799200319,,,, 8058314720 हमसे जुड़ने के लिए सम्पर्क करें नेशनल न्यूज़ हेड :- पवन चौहान :- 09351478102,,
Saturday, May 15Tisari Aankh
Scroll news
हरियाणा की विशेष प्रभात खबरें~एक नजर* *12 अक्टूबर, 2020 सोमवार* *◼चंडीगढ़: हरियाणा में पांच साल बाद सिरे चढ़ेगी 38 स्टेशन सुपरवाइजर की भर्ती, चयन आयोग ने दिया संकेत* *◼चंडीगढ़: हरियाणा में पराली से कमाई शुरू, चीनी-पेपर मिलों को ईंधन ब्लॉक बनाकर बेच रहे किसान* *◼नई दिल्ली/चंडीगढ़: लाल डोरा मुक्त अभियान:227 गांव हो चुके लाल डोरा से मुक्त, पीएम ने की 221 गांवों को संपत्ति कार्ड देने की शुरुआत, वीसी के जरिए प्रधानमंत्री से जुड़े 6 राज्यों के मुख्यमंत्री* *◼चंडीगढ़: गुड़गांव जमीन घोटाला:ढींगरा आयोग व हुड्‌डा केस में खर्च की आधी जानकारी दी तो सूचना आयोग पहुंचे खेमका, गुड़गांव जमीन मामले में हुआ था ढींगरा आयोग का गठन* *◼चंडीगढ़- मिलावटी खाद्य पदार्थ बेचने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई: विज* *◼चंडीगढ़: प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना में हरियाणा के 221 गांवों का चयन, यह योजना हरियाणा के अलावा उत्तर प्रदेश, महाराष्ष्ट्र, उत्तराखंड व कर्नाटका में शुरू की गई है* *◼सभी तरह की लेटेस्ट विविध एवं शैक्षणिक खबरों के लिए "हरियाणा एजुकेशनल अपडेट" फेसबुक पेज ज्वाइन करें* *◼चंडीगढ़: कांग्रेस ने सुरजेवाला को ईएमसीसी का चेयरमैन बनाया, कै. अजय यादव का नाम भी शामिल* *◼कैथल- CMO निलंबन विवाद: सरकार के फैसले के विरोध में 14 अक्तूबर चिकित्सक लगाएंगे काले बिल्ले* *◼रोहतक- सीएम फ्लाइंग की रेड:रोहतक में ढाबे से 40,500 लीटर स्प्रिट पकड़ी, छोटी खेप में हरियाणा, यूपी व राजस्थान में करते थे सप्लाई, 24 गिरफ्तार* *◼चंडीगढ़- ग्रामीण स्तर पर यूथ क्लब का किया जाएगा गठन, युवाओं के सपनों को मिलेगी नई दिशा: खेल एवं युवा मंत्री संदीप सिंह* *◼चंडीगढ़: पंचायत चुनावों को लेकर शुरू की तैयारी, पानीपत-रोहतक की मतदाता सूचियां हो रही तैयार* *◼करनाल: सरकार से चौथा कानून चाहते हैं भूपेन्द्र हुड्डा, कहा- किसानों की फसल के लिए निर्धारित हो एमएसपी* *◼हिसार: अग्रोहा मेडिकल कॉलेज महत्वपूर्ण देखभाल केंद्र घोषित, कोरोना के उपचार के अलावा अन्य सेवाएं हो सकती हैं बंद* *◼सोनीपत: लोसुपा सुप्रीमो राजकुमार सैनी को पथराव की धमकी, पुलिस सुरक्षा में हेल्मेट पहनकर देना पड़ा भाषण* *◼सिरसा: 12 पंचायतों ने कलेक्टर रेट पर जमीन देने के लिए भेजा प्रस्ताव* *जयपुर :-* *राजस्थान एटीएस ने की बड़ी कार्रवाई;* आईपीएल सट्टे को लेकर हैदराबाद, दिल्ली व जयपुर समेत कई जगह रेड; 7 सट्टेबाज हैदराबाद व 7 जयपुर से दबोचे; दिल्ली मे आरोपी हुआ मौके से फरार; राजस्थान में सट्टा व्यापार हेतु इस्तेमाल किये जाने वाले कई उपकरण बरामद; *14 गिरफ्त लोगों में हैदराबाद से गणेश जालानी, पंकज सेठिया व सुरेश चलानी, जयपुर से देवेंद्र कोठारी व राजेन्द्र शेवेदकर निवासी मुम्बई शामिल;* यह गिरोह बताया जा रहा अंतरराज्यीय; पूछताछ में कुछ और बड़े नाम सामने आने की सम्भावना *Kota* *MBS अस्पताल के कोटेज वार्ड में घुसा कोबरा* कोबरा देख मरीज और कर्मचारियों के मची खलबली, स्नैक कैचर को बुलाया मौके पर, स्नैक कैचर गोविंद शर्मा ने पकड़ा कोबरा सांप *Jaipur* *त्यौहारी मौके पर 'शुद्ध के लिए युद्ध अभियान'* मिलावटी मावे की रोकथाम के लिए अभियान, आज से प्रदेशभर में चलेगा विशेष जांच अभियान, *12 से 16 अक्टूबर के बीच चलाया जाएगा अभियान* अभियान को लेकर सभी CMHO को निर्देश, हर दिन मुख्यालय को भेजनी है रिपोर्ट

संकट में ऑक्सीजन,, लेखक :- रामभरोसी मीणा



संकट में ऑक्सीजन,,



लेखक :- रामभरोसी मीणा



लेखक :- रामभरोसी मीणा

भारत प्राकृतिक संपदाओं वाला देश है, प्राकृतिक संपदाओं के अपार भंडार होते हुए भी यहां लोग गरीब पाए जाते हैं। औद्योगिकीकरण के प्रारंभ के बाद लोगों की आर्थिक स्थिति में ‘आटे में नमक ‘ के समान बदलाव प्रारंभ हुआ, लेकिन स्थिति “ज्यों की त्यों” जल, जंगल, जमीन, खनिज संपदा चाहे जिसकी बात करें सभी प्रचुर मात्रा में आवश्यकता से अधिक प्रकृति ने दिये, लेकिन हमारी भूल के कारण आज यह संपदा नष्ट होने के कगार पर आ गई, जो हमें ईश्वर ने दी थी । आज भारत की जनसंख्या 139 करोड़ है, लेकिन वन संपदा के नष्ट होने के कारण 139 करोड़ लोगों के पास ऑक्सीजन पहुंचाना बड़ा मुश्किल हो रहा है। ‘ऑक्सीजन जीवन रक्षक’ । जिस प्रकार से पानी से निकाली मछली तड़पती है, वैसे ऑक्सीजन के अभाव में व्यक्ति तड़पकर मरता है। एक क्षण भी ऑक्सीजन के बगैर नहीं रह सकता।
भारतीय संस्कृति, समाज में पौधों का अपना महत्व रहा है। धर्म व धर्म ग्रंथों की बात करें तो भागवत गीता, कुरान, बाइबल, गुरु ग्रंथ साहिब सभी धर्म ग्रंथों, मानवता, संस्कृति को पढ़ें, सभी में पेड़ पौधों के प्रति उदारता दिखाई है। जंगल को हमारे ऋषि आनंददायक कहते हैं, “अरण्यं ते पृथिवी स्योनमस्तु”। जंगल को सर्वाधिक रमणीय बताते हुए व्यक्ति को नियमों का पालन करने के लिए स्वयं को स्वच्छ व स्वस्थ रखने के लिए जंगल के नजदीक रहना अति उत्तम बताया । ब्रह्मचर्य, वानप्रस्थ, सन्यास आश्रम का सीधा संबंध वनों से है। इसके पालन के लिए व्यक्ति को समय-समय पर संस्कृति के साथ-साथ संस्कारों से जोड़ा गया, जिससे कि वह वनों को रमणीय बनाए रखे, उनका रक्षक बन कर रह सके। अशोक के शासनकाल में वनों की रक्षा श्रेष्ठ थी, चाणक्य ने अरण्यपालों की नियुक्ति की। भगवान श्री कृष्ण ने गोपालको को वृक्ष की पूजा करने का संदेश दिया था। हमारे शास्त्रों में एक वृक्ष की दस पुत्रों के समान तुलना की गई है।
पौधों की रक्षा के लिए जाति, समाज को धर्म, संस्कृति, संस्कारों के माध्यम से जोड़ा जाता आया है। प्रचुर मात्रा में ऑक्सीजन देने वाले पौधे को धर्म के साथ दहराडी प्रथा से जोड़कर उनकी रक्षा का जिम्मा सौंपा गया। पीपल, बरगद, तुलसी,बीलजैसे पौधों को काटना तो दूर उनकी लकड़ी भी घर तक जलाने के लिए नहीं लाई जाती थी। दहराडी वाले पौधों को उस गोत्र , समाज के लोग फल, पत्ते,लकड़ी आदि काम नहीं लेते, उनके विकास के लिए हमेशा तत्पर रहते थे। यही नहीं पौधों के विकास के लिए बगीची, बनी, देव बनी, अंरण्य, गोरव्या आदि कई तरह के छोटे-छोटे जंगल तैयार किए जाते जो वातावरण को स्वच्छ बनाए रखने के साथ ऑक्सीजन की प्रचुर मात्रा में पूर्ति करते ।
चार से पांच दशक पूर्व तक वनों की रक्षा सरकार नहीं ‘समाज ‘ करता । हर गांव में वन प्रेमी, प्रकृति प्रेमी जन्म लेता, समय के आधार पर व्यक्ति में संस्कार डालने के लिए धर्म, संस्कृति का सहारा लेकर जन जन तक अपनी आवाज पहुंचा कर जंगलों को बचाने का काम करते, समाज सुधारक, साधु संतों, प्रकृति प्रेमी सभी ने अपना दायित्व निभाने का काम किया और ऑक्सीजन के अपार भंडारों को बचाकर रखा। एक दशक पूर्व तक लोग जिस पौधे की दहराडी होती, उस पौधे के फल का जूस नहीं पिया करते थे और उसे हाथ में लेना बहुत बड़ा गुनाह मानते , लेकिन आज परिस्थितियां इसके बिल्कुल विपरीत हो गई । पेड़ों के प्रति संस्कार खत्म हो गए, आखिर इन ऑक्सीजन के भंडारों के प्रति हमारी उदारता खत्म क्यों हुई! बरगद जैसे विशालकाय पौधे नष्ट हो गए, पीपल के प्रति आस्था खत्म हो गई, वनों को आरी चला कर नष्ट किया, जिससे सैकड़ों प्रकार की वनस्पतियां व वन्य पौधों की प्रजातियां नष्ट हो गई, और चारों तरफ ऑक्सीजन के लिए त्राहि-त्राहि मच ना प्रारंभ हो गया, जैसा आज आंखों देख रहे हैं।
औद्योगिकरण के विकास के साथ कार्बनिक पदार्थो के अत्यधिक उत्सर्जन, बढ़ते प्रदूषण, ग्लोबल वार्मिंग, प्राकृतिक संसाधनों के साथ छेड़छाड़, अमानवीय गतिविधियाें के चलते वन वन संपदा के साथ ही निजी स्वामित्व वाले पौधों पर आरी चलना प्रारंभ हुआ, परिणाम स्वरूप पौधों की अनेक दुर्लभ प्रजातियां तेजी के साथ नष्ट होना प्रारंभ होने लगी, और इसी का परिणाम है कि आज सांस लेना मुश्किल हो गया। औद्योगीकरण के चलते देश में 35% वन कम हुये है, रिजर्व वन क्षेत्रों की सीमा बढ़ती जा रही, नए पार्क विकसित किए जा रहे हैं फिर भी वन घट रहें हैं। इसके चलते पर्यावरण सुधार के कोई आसार दिखाई नहीं देते। परिणाम स्वरूप “ऑक्सीजन ” संकट में है,अर्थात पूरा देश संकट में है। इसे बचाने के लिए व्यक्ति, समाज, सरकार, साधु संतों, पर्यावरण प्रेमीयों को आगे आने का सही समय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Saturday, May 15Tisari Aankh
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Breaking news
अलवर: अलवर जिले में नाबालिग बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार, 100 दिन बाद भी आरोपी खुलेआम घूम रहे है। इंसाफ नही मिलने पर राष्ट्रपति से इच्छामृत्यु की अपील। आम आदमी पार्टी पीड़ित को न्याय दिलाने, आरोपियों को फांसी की सजा के साथ ही जांच और गिरफ्तारी में हुई देरी के लिए ज़िम्मेदार अधिकारियों को बर्खास्त करने की मांग करती है। *अलवर* *भिवाड़ी में देसी और अंग्रेजी शराब बनाने का भंडाफोड़, बनाई गई अवैध शराब को शराबबंदी वाले राज्यों में किया जाता था सप्लाई, फूलबाग थाना पुलिस ने पूरी फैक्ट्री को किया सीज, पुलिस ने आरोपियों को भी किया गिरफ्तार, कुछ देर बाद पुलिस अधीक्षक करेंगे मामले का खुलासा*