Advertisement
सभी साथी रहे देश विदेश की ताजा खबरों के साथ अपडेट तो डाउनलोड करें Google Play Store से हमारे मोबाइल एप को सभी राज्यों में एवं सभी जिलों एवं तहसीलों मैं संवाददाता बनने हेतु संपर्क करें निदेशक हरिओम शर्मा संपर्क सूत्र 9799200319,,,, 8058314720 हमसे जुड़ने के लिए सम्पर्क करें नेशनल न्यूज़ हेड :- पवन चौहान :- 09351478102,,
Wednesday, March 3Tisari Aankh
Scroll news
हरियाणा की विशेष प्रभात खबरें~एक नजर* *12 अक्टूबर, 2020 सोमवार* *◼चंडीगढ़: हरियाणा में पांच साल बाद सिरे चढ़ेगी 38 स्टेशन सुपरवाइजर की भर्ती, चयन आयोग ने दिया संकेत* *◼चंडीगढ़: हरियाणा में पराली से कमाई शुरू, चीनी-पेपर मिलों को ईंधन ब्लॉक बनाकर बेच रहे किसान* *◼नई दिल्ली/चंडीगढ़: लाल डोरा मुक्त अभियान:227 गांव हो चुके लाल डोरा से मुक्त, पीएम ने की 221 गांवों को संपत्ति कार्ड देने की शुरुआत, वीसी के जरिए प्रधानमंत्री से जुड़े 6 राज्यों के मुख्यमंत्री* *◼चंडीगढ़: गुड़गांव जमीन घोटाला:ढींगरा आयोग व हुड्‌डा केस में खर्च की आधी जानकारी दी तो सूचना आयोग पहुंचे खेमका, गुड़गांव जमीन मामले में हुआ था ढींगरा आयोग का गठन* *◼चंडीगढ़- मिलावटी खाद्य पदार्थ बेचने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई: विज* *◼चंडीगढ़: प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना में हरियाणा के 221 गांवों का चयन, यह योजना हरियाणा के अलावा उत्तर प्रदेश, महाराष्ष्ट्र, उत्तराखंड व कर्नाटका में शुरू की गई है* *◼सभी तरह की लेटेस्ट विविध एवं शैक्षणिक खबरों के लिए "हरियाणा एजुकेशनल अपडेट" फेसबुक पेज ज्वाइन करें* *◼चंडीगढ़: कांग्रेस ने सुरजेवाला को ईएमसीसी का चेयरमैन बनाया, कै. अजय यादव का नाम भी शामिल* *◼कैथल- CMO निलंबन विवाद: सरकार के फैसले के विरोध में 14 अक्तूबर चिकित्सक लगाएंगे काले बिल्ले* *◼रोहतक- सीएम फ्लाइंग की रेड:रोहतक में ढाबे से 40,500 लीटर स्प्रिट पकड़ी, छोटी खेप में हरियाणा, यूपी व राजस्थान में करते थे सप्लाई, 24 गिरफ्तार* *◼चंडीगढ़- ग्रामीण स्तर पर यूथ क्लब का किया जाएगा गठन, युवाओं के सपनों को मिलेगी नई दिशा: खेल एवं युवा मंत्री संदीप सिंह* *◼चंडीगढ़: पंचायत चुनावों को लेकर शुरू की तैयारी, पानीपत-रोहतक की मतदाता सूचियां हो रही तैयार* *◼करनाल: सरकार से चौथा कानून चाहते हैं भूपेन्द्र हुड्डा, कहा- किसानों की फसल के लिए निर्धारित हो एमएसपी* *◼हिसार: अग्रोहा मेडिकल कॉलेज महत्वपूर्ण देखभाल केंद्र घोषित, कोरोना के उपचार के अलावा अन्य सेवाएं हो सकती हैं बंद* *◼सोनीपत: लोसुपा सुप्रीमो राजकुमार सैनी को पथराव की धमकी, पुलिस सुरक्षा में हेल्मेट पहनकर देना पड़ा भाषण* *◼सिरसा: 12 पंचायतों ने कलेक्टर रेट पर जमीन देने के लिए भेजा प्रस्ताव* *जयपुर :-* *राजस्थान एटीएस ने की बड़ी कार्रवाई;* आईपीएल सट्टे को लेकर हैदराबाद, दिल्ली व जयपुर समेत कई जगह रेड; 7 सट्टेबाज हैदराबाद व 7 जयपुर से दबोचे; दिल्ली मे आरोपी हुआ मौके से फरार; राजस्थान में सट्टा व्यापार हेतु इस्तेमाल किये जाने वाले कई उपकरण बरामद; *14 गिरफ्त लोगों में हैदराबाद से गणेश जालानी, पंकज सेठिया व सुरेश चलानी, जयपुर से देवेंद्र कोठारी व राजेन्द्र शेवेदकर निवासी मुम्बई शामिल;* यह गिरोह बताया जा रहा अंतरराज्यीय; पूछताछ में कुछ और बड़े नाम सामने आने की सम्भावना *Kota* *MBS अस्पताल के कोटेज वार्ड में घुसा कोबरा* कोबरा देख मरीज और कर्मचारियों के मची खलबली, स्नैक कैचर को बुलाया मौके पर, स्नैक कैचर गोविंद शर्मा ने पकड़ा कोबरा सांप *Jaipur* *त्यौहारी मौके पर 'शुद्ध के लिए युद्ध अभियान'* मिलावटी मावे की रोकथाम के लिए अभियान, आज से प्रदेशभर में चलेगा विशेष जांच अभियान, *12 से 16 अक्टूबर के बीच चलाया जाएगा अभियान* अभियान को लेकर सभी CMHO को निर्देश, हर दिन मुख्यालय को भेजनी है रिपोर्ट

राम तेरी गंगा मैली ….करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी गंगा मैली …गुनहगार कौन..?



TAMN नेटवर्क



राम तेरी गंगा मैली ….करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी गंगा मैली …गुनहगार कौन..?



【हरिओम शर्मा】



गंगा भारत की सबसे महत्वपूर्ण नदी है और इसका धार्मिक महत्व भी बहुत अधिक है। कहते है कि इसका जल घर में शीशी या प्लास्टिक के डिब्बे आदि में भरकर रख दें तो बरसों तक खराब नहीं होता है और कई तरह के पूजा-पाठ में इसका उपयोग किया जाता है। जैसा कि हम जानते हैं कि हिन्दू धर्म में 20 प्रमुख नदियों का जिक्र है। प्रमुख नदियों में से 4 नदियां- सिन्धु, सरस्वती, गंगा और ब्रह्मपुत्र हिमालय से निकलती हैं। शेष इन्हीं नदियों की सहायक नदियां हैं या फिर वे प्रायद्वीपीय नदियां हैं अर्थात जिनका हिमालय की नदियों से कोई संबंध नहीं है। इनमें से सरस्वती अब लुप्त हो गई है। सरस्वती के लुप्त होने के पीछे दो कारण है- प्राकृतिक और मानव की गतिविधि। उसी तरह गंगा यदि मर रही है तो उसके प्राकृतिक कारण कम और मानव की गतिविधियां ज्यादा हैं। कैसे? हम यह आपको बताएंगे।



◆ अखंड भारत की ये प्रमुख नदियां ◆



1. सिन्धु, 2. सरस्वती, 3. गंगा, 4. यमुना, 5. गोदावरी, 6. नर्मदा (रेवा), 7. कृष्णा, 8. महानदी (महानंदा, चित्रोत्पला), 9. कावेरी, 10. ताप्ती, 11. सरयू और 12. मेघना, 13. ब्राह्मणी, 14. पेन्नार, 15. माही, 16. साबरमती, 17. शिप्रा, 18. स्वात, 19. कुंभा (काबुल) और 20. किशनगंगा (नीलम)।सिन्धु की जितनी भी सहायक नदियां हैं, वे सभी पवित्र नदियां मानी जाती हैं। हिन्दुओं की प्रारंभिक सभ्यता सिन्धु, सरस्वती और ब्रह्मपुत्र नदी के पास ही बसी और विकसित हुई थी। उक्त 3 नदियों का धर्म में महत्वपूर्ण स्थान है। सिन्धु की सभी सहायक नदियां जैसे कि वितस्ता, चन्द्रभागा, ईरावती, विपासा, शुतुद्री, झेलम, चिनाब, रावी, व्यास, सतलुज, गिलगिट, काबुल, स्वात, कुर्रम, टोची, गोमल, संगर आदि नदियों का वेदों में उल्लेख मिलता है। यह कहने में कोई गुरेज नहीं कि लगभग सभी नदियों को प्रदूषित करने में हिन्दू धर्म के लोगों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। इसके बाद गंगा के हत्यारे वे शहर और गांव हैं, जो गंगा के किनारे बसे हैं जैसे हरिद्वार, मुरादाबाद, रामपुर, कन्नौज, कानपुर, भागलपुर, इलाहाबाद, वाराणसी, ऋषिकेश, पटना, राजशाही आदि।



◆ तीर्थों का अनुशासन खत्म ◆



ढाई हजार किलोमीटर क्षेत्र में फैली गंगा के किनारे छोटे-बड़े 800 तीर्थ हुआ करते थे। इन तीर्थों में रहने, जाने और स्नान आदि करने का अनुशासन था, लेकिन वह अब नहीं रहा। लेकिन पिछले 60 वर्ष में बाजारवाद और आधुनिकता अभिमानी तंत्र ने तीर्थों की उस व्यवस्था को तहस-नहस कर दिया।



◆ गंगा में स्नान ◆



देशभर से गंगा में स्नान करने लोग आते हैं। कुंभ के दौरान तो लाखों लोग गंगा में डुबकी लगाते हैं। गंगा में स्नान कर सभी अपने पाप धोना चाहते हैं। सिर्फ पापी लोग ही गंगा में स्नान करते हैं। पापियों के पाप धोते-धोते गंगा मैली नहीं, जहरीली हो गई है। ये जितने भी पापी हैं, अपने पाप धोने के साथ गंगा के पानी को गंदा भी कर जाते हैं। नदी के किनारे ही ये अपना मल-मूत्र त्यागते हैं, वहीं भोजन करते हैं और प्लास्टिक, कचरा आदि वहीं फेंककर चल देते हैं।



◆ गंगा की पूजा ◆



गंगा पूजा के नाम पर गंगा में लाखों टन हार-फूल, नारियल आदि फेंक दिया जाता है। पत्तों पर रखकर दीये जलाए जाते हैं और उन्हें भी पानी में बहा दिया जाता है। फिर होती है गंगा आरती। पूरे देश में गंगा का जल बेचा जाता है। लाखों श्रद्धालु गंगा का जल एक छोटे-से लोटे में भरकर ले जाते हैं और अपने घरों में पूजा स्थान पर रखते हैं।



◆ गंगा में मूर्ति और लाश ◆



कई त्योहारों पर हानिकारक रंगों से युक्त देवी-देवताओं की प्रतिमाएं गंगा में प्रवाहित कर उसे प्रदूषित किया जाता है। धार्मिक आस्था के चलते कई लोग अपने मृतकों को गंगा में बहा देते हैं। गंगा में 2 करोड़ 90 लाख लीटर से ज्यादा प्रदूषित कचरा हर रोज गिर रहा है।



◆ नाली और नाले का पानी ◆



कुल 138 नाले गंगा में 6087 एमएलडी गंदगी छोड़ते हैं, जिनमें 14 उत्तराखंड, 45 उत्तरप्रदेश, 25 बिहार और 54 नाले पश्चिम बंगाल में हैं। इसके अलावा 764 अति-प्रदूषित औद्योगिक इकाइयां गंगा में गंदगी डाल रही हैं जिसमें 687 उत्तरप्रदेश में हैं।विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के अनुसार उत्तरप्रदेश में बहुत-सी बीमारियों का कारण जहर बन चुका गंगाजल है। आज गंगा जल पीने व नहाने के योग्य नहीं रहा। कई वैज्ञानिकों के अनुसार गंगा का पानी फसलों की सिंचाई करने के योग्य भी नहीं है।कारखानों से फैल रहा गंगा में जहर :सीपीसीबी ने एनजीटी को 956 औद्योगिक इकाइयों की सूची सौंपी थी जिनसे गंगा में प्रदूषण हो रहा है। इन सभी औद्योगिक इकाइयों पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। गंगा के किनारे लगे परमाणु बिजलीघर, रासायनिक खाद, शकर के कारखाने और चमड़े के कारखाने जहररूपी अपना औद्योगिक कचरा गंगा में फेंक रहे हैं। मोदी सरकार के आने के बाद भी नहीं यह कचरा फेंका जा रहा है। तत्काल प्रभाव से इन इकाइयों को बंद नहीं किया गया तो जानकार कहते हैं कि मात्र 20 साल में गंगा पूरी तरह से मर जाएगी।



◆ दुर्लभ प्रजा‍तियां खतरे में ◆



इस नदी में मछलियों तथा सर्पों की अनेक प्रजातियां तो पाई ही जाती हैं, मीठे पानी वाले दुर्लभ डालफिन भी पाए जाते हैं। जल प्रदूषण और जल की कमी के कारण हजारों दुर्लभ जलचर जंतुओं का जीवन अब खतरे में है।



◆ पवित्र है गंगा का जल ◆



इसका वैज्ञानिक आधार सिद्ध हुए वर्षों बीत गए। उसके अनुसार नदी के जल में मौजूद बैक्टीरियोफेज नामक जीवाणु गंगाजल में मौजूद हानिकारक सूक्ष्म जीवों को जीवित नहीं रहने देते अर्थात ये ऐसे जीवाणु हैं, जो गंदगी और बीमारी फैलाने वाले जीवाणुओं को नष्ट कर देते हैं। इसके कारण ही गंगा का जल नहीं सड़ता है।भारत की सबसे महत्वपूर्ण नदी गंगा का धार्मिक महत्व बहुत अधिक है। इसका जल घर में शीशी या प्लास्टिक के डिब्बे आदि में भरकर रख दें तो बरसों तक खराब नहीं होता है और कई तरह के पूजा-पाठ में इसका उपयोग किया जाता है। ऐसी आम धारणा है कि मरते समय व्यक्ति को यह जल पिला दिया जाए तो ‍उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है।गंगा जल में प्राणवायु की प्रचुरता बनाए रखने की अदभुत क्षमता है। इस कारण पानी से हैजा और पेचिश जैसी बीमारियों का खतरा बहुत ही कम हो जाता है, लेकिन अब वह बात नहीं रही।



◆ गंगा नदी की पौराणिक गाथा ◆



पौराणिक गाथाओं के अनुसार भगीरथी नदी गंगा की उस शाखा को कहते हैं, जो गढ़वाल (उत्तरप्रदेश) में गंगोत्री से निकलकर देवप्रयाग में अलकनंदा में मिल जाती है व गंगा का नाम प्राप्त करती है। ब्रह्मा से लगभग 23वीं पीढ़ी बाद और राम से लगभग 14वीं पीढ़ी पूर्व भगीरथ हुए। भगीरथ ने ही गंगा को पृथ्वी पर उतारा था। इससे पहले उनके पूर्वज सगर ने भारत में कई नदी और जलराशियों का निर्माण किया था। उन्हीं के कार्य को भगीरथ ने आगे बढ़ाया। पहले हिमालय के एक क्षेत्र विशेष को देवलोक कहा जाता था।



◆ गंगा का उद्गम ◆



गंगा का उद्गम दक्षिणी हिमालय में तिब्बत सीमा के भारतीय हिस्से से होता है। गंगोत्री को गंगा का उद्गम माना गया है। गंगोत्री उत्तराखंड राज्य में स्थित गंगा का उद्गम स्थल है। सर्वप्रथम गंगा का अवतरण होने के कारण ही यह स्थान गंगोत्री कहलाया, किंतु वस्तुत: उनका उद्गम 18 मील और ऊपर श्रीमुख नामक पर्वत से है।वहां गोमुख के आकार का एक कुंड है जिसमें से गंगा की धारा फूटी है। 3,900 मीटर ऊंचा गोमुख गंगा का उद्गम स्थल है। इस गोमुख कुंड में पानी हिमालय के और भी ऊंचाई वाले स्थान से आता है।यह नदी 3 देशों के क्षे‍त्र का उद्धार करती है- भारत, नेपाल और बांग्लादेश। नेपाल, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल और फिर बांग्लादेश में घुसकर यह बंगाल की खाड़ी में समा जाती है।हिमाचल के हिमालय से निकलकर यह नदी प्रारंभ में 3 धाराओं में बंटती है- मंदाकिनी, अलकनंदा और भगीरथी। देवप्रयाग में अलकनंदा और भगीरथी का संगम होने के बाद यह गंगा के रूप में दक्षिण हिमालय से ऋषिकेश के निकट बाहर आती है और हरिद्वार के बाद मैदानी इलाकों में प्रवेश करती है।फिर यह नदी उत्तराखंड के बाद मध्यदेश से होती हुई यह बिहार में पहुंचती है और फिर पश्चिम बंगाल के हुगली पहुंचती है। यहां से बांग्लादेश में घुसकर यह ब्रह्मपुत्र नदी से मिलकर गंगासागर, जिसे आजकल बंगाल की खाड़ी कहा जाता है, में मिल जाती है। इस दौरान यह 2,300 किलोमीटर से ज्यादा का सफर तय करती है। इस बीच इसमें कई नदियां मिलती हैं जिसमें प्रमुख हैं- सरयू, यमुना, सोन, रामगंगा, गोमती, घाघरा, गंडक, बूढ़ी गंडक, कोसी, घुघरी, महानंदा, हुगली, पद्मा, दामोदर, रूपनारायण, ब्रह्मपुत्र और अंत में मेघना।



◆ गंगा की धारा ◆



हिमालय से निकलकर गंगा 12 धाराओं में विभक्त होती है। इसमें मंदाकिनी, भगीरथी, धौलीगंगा और अलकनंदा प्रमुख है। गंगा नदी की प्रधान शाखा भगीरथी है, जो कुमाऊं में हिमालय के गोमुख नामक स्थान पर गंगोत्री हिमनद से निकलती है। यहां गंगाजी को समर्पित एक मंदिर भी है।



◆ गंगा के तट के तीर्थ ◆



गंगोत्री से लेकर गंगासागर तक गंगा के तट पर हजारों तीर्थ है। गंगा को भारत का हृदय माना जाता है। इसके एक और सिन्धु और सरस्वती बहती है तो दूसरी ओर ब्रह्मपुत्र।



◆ गंगा का योगदान ◆



गंगा अपने प्राकृतिक सौंदर्य और औषधीय गुणों वाले जल के कारण भारत में हजारों-लाखों वर्षों से पूजी जा रही है। हजारों वर्षों से गंगा देश की प्यास बुझा रही है। यह कृषि, पर्यटन, साहसिक खेलों तथा उद्योगों के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देती है तथा अपने तट पर बसे शहरों की जलापूर्ति भी करती है। इसके तट पर विकसित धार्मिक स्थल जैसे वाराणसी, हरिद्वार और तीर्थ भारतीय सामाजिक व्यवस्था के विशेष अंग हैं। इसके ऊपर बने पुल, बांध और नदी परियोजनाएं भारत की बिजली, पानी और कृषि से संबंधित जरूरतों को पूरा करती हैं।



◆ 16 साल में मर जाएगी गंगा ◆



संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट अनुसार गंगा को सदानीरा बनाए रखने वाला हिमनद सिर्फ 16 साल और किसी न किसी तरह जिंदा रहेगा। यह हिमनद धीरे-धीरे पिघलता जा रहा है। उसके बाद यह पूरी तरह लुप्त हो जाएगा। आशय यह है कि गंगोत्री ही सूख जाएगी तो गंगा में वह पानी कहां से आएगा?सीलिसबर्ग स्थित महर्षि वैदिक इंस्टीट्यूट की चिंता दूसरी तरह की है। इंस्टीट्यूट के कराए गए अध्ययन के मुताबिक गंगा नदी और उसके स्रोत गंगा ग्लेशियर को किसी तरह फिर भी बचा लिया जाए और गंगा नदी बहती रहे। लेकिन यह जरूरी नहीं है कि उसकी तीर्थवत्ता बनी रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Wednesday, March 3Tisari Aankh
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Breaking news
अलवर: अलवर जिले में नाबालिग बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार, 100 दिन बाद भी आरोपी खुलेआम घूम रहे है। इंसाफ नही मिलने पर राष्ट्रपति से इच्छामृत्यु की अपील। आम आदमी पार्टी पीड़ित को न्याय दिलाने, आरोपियों को फांसी की सजा के साथ ही जांच और गिरफ्तारी में हुई देरी के लिए ज़िम्मेदार अधिकारियों को बर्खास्त करने की मांग करती है। *अलवर* *भिवाड़ी में देसी और अंग्रेजी शराब बनाने का भंडाफोड़, बनाई गई अवैध शराब को शराबबंदी वाले राज्यों में किया जाता था सप्लाई, फूलबाग थाना पुलिस ने पूरी फैक्ट्री को किया सीज, पुलिस ने आरोपियों को भी किया गिरफ्तार, कुछ देर बाद पुलिस अधीक्षक करेंगे मामले का खुलासा*