Advertisement
सभी साथी रहे देश विदेश की ताजा खबरों के साथ अपडेट तो डाउनलोड करें Google Play Store से हमारे मोबाइल एप को सभी राज्यों में एवं सभी जिलों एवं तहसीलों मैं संवाददाता बनने हेतु संपर्क करें निदेशक हरिओम शर्मा संपर्क सूत्र 9799200319,,,, 8058314720 हमसे जुड़ने के लिए सम्पर्क करें नेशनल न्यूज़ हेड :- पवन चौहान :- 09351478102,,
Wednesday, March 3Tisari Aankh
Scroll news
हरियाणा की विशेष प्रभात खबरें~एक नजर* *12 अक्टूबर, 2020 सोमवार* *◼चंडीगढ़: हरियाणा में पांच साल बाद सिरे चढ़ेगी 38 स्टेशन सुपरवाइजर की भर्ती, चयन आयोग ने दिया संकेत* *◼चंडीगढ़: हरियाणा में पराली से कमाई शुरू, चीनी-पेपर मिलों को ईंधन ब्लॉक बनाकर बेच रहे किसान* *◼नई दिल्ली/चंडीगढ़: लाल डोरा मुक्त अभियान:227 गांव हो चुके लाल डोरा से मुक्त, पीएम ने की 221 गांवों को संपत्ति कार्ड देने की शुरुआत, वीसी के जरिए प्रधानमंत्री से जुड़े 6 राज्यों के मुख्यमंत्री* *◼चंडीगढ़: गुड़गांव जमीन घोटाला:ढींगरा आयोग व हुड्‌डा केस में खर्च की आधी जानकारी दी तो सूचना आयोग पहुंचे खेमका, गुड़गांव जमीन मामले में हुआ था ढींगरा आयोग का गठन* *◼चंडीगढ़- मिलावटी खाद्य पदार्थ बेचने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई: विज* *◼चंडीगढ़: प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना में हरियाणा के 221 गांवों का चयन, यह योजना हरियाणा के अलावा उत्तर प्रदेश, महाराष्ष्ट्र, उत्तराखंड व कर्नाटका में शुरू की गई है* *◼सभी तरह की लेटेस्ट विविध एवं शैक्षणिक खबरों के लिए "हरियाणा एजुकेशनल अपडेट" फेसबुक पेज ज्वाइन करें* *◼चंडीगढ़: कांग्रेस ने सुरजेवाला को ईएमसीसी का चेयरमैन बनाया, कै. अजय यादव का नाम भी शामिल* *◼कैथल- CMO निलंबन विवाद: सरकार के फैसले के विरोध में 14 अक्तूबर चिकित्सक लगाएंगे काले बिल्ले* *◼रोहतक- सीएम फ्लाइंग की रेड:रोहतक में ढाबे से 40,500 लीटर स्प्रिट पकड़ी, छोटी खेप में हरियाणा, यूपी व राजस्थान में करते थे सप्लाई, 24 गिरफ्तार* *◼चंडीगढ़- ग्रामीण स्तर पर यूथ क्लब का किया जाएगा गठन, युवाओं के सपनों को मिलेगी नई दिशा: खेल एवं युवा मंत्री संदीप सिंह* *◼चंडीगढ़: पंचायत चुनावों को लेकर शुरू की तैयारी, पानीपत-रोहतक की मतदाता सूचियां हो रही तैयार* *◼करनाल: सरकार से चौथा कानून चाहते हैं भूपेन्द्र हुड्डा, कहा- किसानों की फसल के लिए निर्धारित हो एमएसपी* *◼हिसार: अग्रोहा मेडिकल कॉलेज महत्वपूर्ण देखभाल केंद्र घोषित, कोरोना के उपचार के अलावा अन्य सेवाएं हो सकती हैं बंद* *◼सोनीपत: लोसुपा सुप्रीमो राजकुमार सैनी को पथराव की धमकी, पुलिस सुरक्षा में हेल्मेट पहनकर देना पड़ा भाषण* *◼सिरसा: 12 पंचायतों ने कलेक्टर रेट पर जमीन देने के लिए भेजा प्रस्ताव* *जयपुर :-* *राजस्थान एटीएस ने की बड़ी कार्रवाई;* आईपीएल सट्टे को लेकर हैदराबाद, दिल्ली व जयपुर समेत कई जगह रेड; 7 सट्टेबाज हैदराबाद व 7 जयपुर से दबोचे; दिल्ली मे आरोपी हुआ मौके से फरार; राजस्थान में सट्टा व्यापार हेतु इस्तेमाल किये जाने वाले कई उपकरण बरामद; *14 गिरफ्त लोगों में हैदराबाद से गणेश जालानी, पंकज सेठिया व सुरेश चलानी, जयपुर से देवेंद्र कोठारी व राजेन्द्र शेवेदकर निवासी मुम्बई शामिल;* यह गिरोह बताया जा रहा अंतरराज्यीय; पूछताछ में कुछ और बड़े नाम सामने आने की सम्भावना *Kota* *MBS अस्पताल के कोटेज वार्ड में घुसा कोबरा* कोबरा देख मरीज और कर्मचारियों के मची खलबली, स्नैक कैचर को बुलाया मौके पर, स्नैक कैचर गोविंद शर्मा ने पकड़ा कोबरा सांप *Jaipur* *त्यौहारी मौके पर 'शुद्ध के लिए युद्ध अभियान'* मिलावटी मावे की रोकथाम के लिए अभियान, आज से प्रदेशभर में चलेगा विशेष जांच अभियान, *12 से 16 अक्टूबर के बीच चलाया जाएगा अभियान* अभियान को लेकर सभी CMHO को निर्देश, हर दिन मुख्यालय को भेजनी है रिपोर्ट

किसानों ने ट्रैक्टर रैली निकालने का पक्का इरादा कर लिया है – किसान नेता – BBC हिंदी

  • दिलनवाज़ पाशा
  • बीबीसी संवाददाता

इमेज कैप्शन,

पंजाब के गुरदासपुर में ट्रैक्टर रैली की तैयारियां

26 जनवरी को दिल्ली में किसानों की प्रस्तावित परेड के लिए हरियाणा और पंजाब के गाँव-गाँव में बड़े पैमाने पर तैयारियाँ चल रही हैं.

इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में किसानों की प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. मुख्य न्यायाधीश जस्टिस शरद ए बोबड़े ने कहा है कि ट्रैक्टर परेड को दिल्ली में आने देना है या नहीं, ये सुरक्षा व्यवस्था से जुड़ा मामला है और इसका फ़ैसला दिल्ली पुलिस को करना है.

इस रैली को लेकर दिल्ली पुलिस और किसान नेताओं के बीच तीन बार बातचीत हो चुकी है. दिल्ली पुलिस चाहती है कि किसानों की परेड दिल्ली के बाहर ही हो, जबकि किसान संगठन दिल्ली में परेड निकालने पर अड़े हैं.

दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के साथ बैठक में शामिल रहे किसान नेता राजिंदर सिंह दीपसिंहवाला कहते हैं, “हमने दिल्ली पुलिस को स्पष्ट कर दिया है कि ट्रैक्टर परेड दिल्ली में दाखिल होगी, कोई बैरिकेड किसानों के ट्रैक्टरों को रोक नहीं पाएगा.”

दीपसिंहवाला बताते हैं, “पुलिस ने हमसे बाहरी पेरिफेरल हाइवे पर परेड निकालने के लिए कहा है, लेकिन हमने स्पष्ट कर दिया है कि परेड दिल्ली के आउटर रिंग रोड पर ही होगी. हमारा गणतंत्र दिवस की परेड को डिस्टर्ब करने का भी कोई इरादा नहीं है.”

वो कहते हैं, “हमें उम्मीद है कि दिल्ली पुलिस अपने आप ही बैरिकेड हटा देगी. हम ये ज़ोर देकर कह रहे हैं कि किसानों ने दिल्ली में परेड निकालने का इरादा कर लिया है और कोई भी किसानों को रोक नहीं पाएगा.”

वहीं दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट सीपी (नॉर्दन रेंज) एसएन यादव ने बीबीसी से कहा, “पुलिस ने सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम किए हैं और किसान नेताओं से परेड को लेकर बातचीत जारी है.”

क्या दिल्ली पुलिस ट्रैक्टर परेड के लिए बैरिकेड हटा देगी और किसानों को दिल्ली में दाखिल होने देगी, इस सवाल पर यादव कहते हैं, “अभी इस बारे में अंतिम फ़ैसला नहीं किया गया है. किसानों से इस पर फ़िलहाल चर्चा चल रही है. हमारा पहला मक़सद राजधानी में सुरक्षा और शांति बनाए रखना है.”

इधर किसानों और सरकार के बीच 10वें दौर की बातचीत बुधवार को दिल्ली के विज्ञान भवन में हुई, जिसमें सरकार ने 18 महीनों के लिए कृषि क़ानून टालने का प्रस्ताव रखा है. 11वें दौर की बातचीत 22 जनवरी को होगी.

बैठक में सरकार के प्रस्ताव पर अभी किसान नेताओं की बातचीत होनी बाक़ी है. लेकिन इस बीच किसान अपनी ट्रैक्टर रैली को लेकर तैयारियाँ करते दिख रहे हैं.

वीडियो कैप्शन,

किसानों का आरोप- सरकार के इशारे पर आंदोलन हिंसक बनाने की साजिश

बीबीसी के सहयोगी पत्रकार समीरात्मज मिश्र के अनुसार विज्ञान भवन में हुई बैठक के बाद भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बीबीसी से कहा, “ट्रैक्टर मार्च तो निकलेगा ही. उसे न तो सरकार रोक सकती है, न पुलिस रोक सकती है और न ही हम रोक सकते हैं.”

राकेश टिकैत का कहना था कि दूर-दराज से आ रहे लाखों किसानों को रोकना अब मुश्किल है. उनके मुताबिक, “किसान शांतिपूर्ण तरीक़े से मार्च करना चाहते हैं, तो उन्हें रोकना भी नहीं चाहिए. किसी तरह की अव्यवस्था तो करेंगे नहीं. किसानों ने ख़ुद ही हज़ारों वालंटियर्स तैयार किए हैं जो पूरी व्यवस्था पर नज़र रखेंगे. आख़िर किसानों को भी तो दिल्ली की सड़कें देखने का हक़ है. वो भी तो देखें कि दिल्ली की सड़कों पर गड्ढे क्यों नहीं हैं, हमारे गाँवों की सड़कें ही गड्ढों वाली क्यों होती हैं.”

इमेज कैप्शन,

टिकरी बॉर्डक पर भी जारी हैं रैली की तैयारियां

रैली के लिए गाँवगाँव में तैयारियाँ

किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन उगराहां से जुड़े शिंगारा सिंह मान कहते हैं कि किसानों की ट्रैक्टर परेड को लेकर गाँव-गाँव में तैयारियाँ चल रही हैं और हर गाँव से ट्रैक्टर दिल्ली की तरफ़ कूच करने जा रहे हैं.

पंजाब और हरियाणा के गाँवों में बाइक और ट्रैक्टर रैलियाँ निकालकर परेड का रिहर्सल आयेजित किया जा रहा है. किसान यूनियनों से जुड़े कार्यकर्ता गाँव-गाँव में दिन रात परेड की तैयारियों में जुटे हैं.

शिंगारा सिंह मान कहते हैं, “हमारी जत्थेबंदी से सिर्फ़ टिकरी बॉर्डर से ही एक हज़ार से अधिक ट्रैक्टर परेड में शामिल होंगे. हम गाँवों से परेड के लिए आने वाले ट्रैक्टरों की गिनती कर रहे हैं और जल्द ही ये आँकड़ा जारी कर दिया जाएगा.”

शिंगारा सिंह मान कहते हैं, “किसानों ने ट्रैक्टर परेड निकालने का पक्का इरादा कर लिया है. इस प्रदर्शन में किसानों ने दिखा दिया है कि वो जो ठान लेते हैं, करते हैं, हम ट्रैक्टर रैली भी निकालकर दिखाएँगे.”

वहीं राजिंदर सिंह दीपसिंहवाला कहते हैं कि अभी परेड में शामिल होने वाले ट्रैक्टरों का सही-सही आँकड़ा तो नहीं दिया जा सकता, लेकिन कम से कम एक लाख ट्रैक्टर रैली में शामिल होंगे.

इमेज कैप्शन,

जसकीरत सिंह

क्या करेंगे किसान

किसान बलजीत सिंह कई दिनों से ट्रैक्टर परेड की तैयारी कर रहे हैं. वो टिकरी बॉर्डर पर प्रदर्शन में शामिल हैं. बलजीत को अंदेशा है कि अगर पुलिस ने बैरीकेड नहीं हटाए, तो हिंसा भी हो सकती है.

बलजीत सिंह कहते हैं, “हम अपनी ट्रैक्टर रैली की तैयारी कर रहे हैं. हमारी मंशा गणतंत्र दिवस परेड में बाधा डालने की नहीं है. लेकिन सरकार की मंशा है कि हम कुछ करें.”

वो कहते हैं, “अभी सरकार ने बैरिकेडिंग बढ़ा दी है. ये बात तय है कि बैरिकेड टूटने हैं. सरकार जानती है कि हम जितने अधिक बैरिकेड लगाएँगे, उतने ही किसान उत्तेजित होंगे. सरकार किसी तरह से इस आंदोलन को हिंसक करना चाहती है. सरकार बैरिकेड हटा दे, तो हिंसा की आशंका ही ख़त्म हो जाएगी.”

बैरिकेड तोड़ने के सवाल पर दीपसिंहवाला कहते हैं, “अगर पुलिस चाहती है कि शांति बनी रहे तो बैरिकेड हटा दे, अगर पुलिस चाहती है कि अशांति हो, तो बैरिकेड लगाए रखे. किसान बैरिकेड को तोड़ना जानते हैं. हमने दिल्ली पहुँचने के लिए भी तोड़े हैं, दिल्ली में घुसने के लिए भी तोड़ देंगे.”

हर सौ मीटर पर होगा वॉलंटियर

टिकरी बॉर्डर पर पहले दिन से प्रदर्शन में शामिल अनूप सिंह चानौत बताते हैं, “26 जनवरी के लिए हमने एक हजार वॉलंटियर तैयार किए हैं जिनकी अंतिम ट्रेनिंग 23 जनवरी को होगी.

परेड के दौरान हर 100 मीटर पर वॉलंटियर तैनात रहेगा. बेहतर कम्यूनिकेशन के लिए सभी को वॉकी-टॉकी दिए जाएँगे.”

अनूप कहते हैं, “हमारा मक़सद है कि किसी भी तरह की हिंसा या उत्तेजक बात न हो और लोग अफ़वाहों पर ध्यान न दें. हमारे किसान नेताओं का संदेश रियल टाइम में परेड में शामिल लोगों तक पहुँचाया जाएगा.”

परेड का रूट अभी तय नहीं

किसान दिल्ली के आउटर रिंग रोड पर परेड निकालना चाहते हैं, लेकिन परेड का अंतिम रूट अभी तय नहीं किया गया है. सिंघू बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर, गाज़ीपुर बॉर्डर और शाहजहांपुर बॉर्डर से किसान ट्रैक्टर लेकर दिल्ली के आउटर रिंग रोड की तरफ बढ़ेंगे और एक दूसरे से मिलते जाएँगे.

दिल्ली का आउटर रिंग रोड एक घेरे जैसा है, जिसके दायरे में दिल्ली आती है.

परेड को अंतिम रूप देने के लिए किसान संगठनों की बैठकें हो रही हैं. किसान नेता गुरुवार को इस बारे में अंतिम फ़ैसला ले सकते हैं. परेड के दौरान किसान संगठनों के नेता आगे रहेंगे, लेकिन कोई भाषण नहीं देगा.

राजिंदर सिंह दीपसिंहवाला कहते हैं, “किसानों की ट्रैक्टर परेड में कम से कम 20 प्रांतों के किसानों की झाँकियाँ भी होंगी. कलाकार भी परेड के लिए झाँकियाँ तैयार करने में सहयोग कर रहे हैं. हम अपनी झाँकियों में किसानों के मुद्दे और उनकी ज़िंदगी की झलक दिखाएँगे. 2021 का गणतंत्र दिवस किसानों के नाम रहेगा.”

ट्रैक्टर परेड में सिर्फ़ ट्रैक्टर ट्रालियाँ ही शामिल नहीं होंगी, बल्कि कृषि में इस्तेमाल की जाने वाली दूसरी मशीनें भी रैली का हिस्सा होंगी. पंजाब और हरियाणा के कुछ हिस्सों में परेड को लेकर तैयारियाँ चल रही हैं, जिनमें बड़ी-बड़ी कंबाइन मशीनों को भी सजाया गया है.

सुरक्षा के लिए ख़तरा?

किसानों की ट्रैक्टर परेड को लेकर सुरक्षा का सवाल भी उठाया गया है. गणतंत्र दिवस की वजह से सुरक्षा एक संवेदनशील मुद्दा है. पुलिस का कहना है कि इसके ज़रिए लाखों की संख्या में किसानों के दिल्ली में घुसने से सुरक्षा के लिए ख़तरा भी पैदा हो सकता है.

लेकिन किसान नेता इस आलोचना को ख़ारिज करते हैं. दीपसिंहवाला कहते हैं, “गणतंत्र दिवस के दिन संविधान लागू हुआ था, उसी दिन हम पर बंदिश लगाई जाएगी, तो हमारे अधिकारों का उल्लंघन होगा. फिर रिपब्लिक डे का मतलब क्या रह जाएगा. सुरक्षा का हवाला देकर हमारे अधिकारों का उल्लंघन नहीं किया जा सकता है.”

वो कहते हैं, “इस बार गणतंत्र दिवस बिल्कुल अलग होगा. देश किसानों की ताक़त देखेगा. हम लाखों ट्रैक्टर लेकर शांतिपूर्ण तरीक़े से निकलेंगे. पूरा देश इस परेड में शामिल होगा.”

टिकरी बॉर्डर पर प्रदर्शन में शामिल जसकीरत सिंह अपने तीन दशक पुराने एचएमटी ट्रेक्टर को परेड के लिए तैयार कर रहे हैं. उन्होंने इससे पहले हुई ट्रैक्टर परेड में भी हिस्सा लिया था.

जसकीरत कहते हैं, “हम दिल्ली में दाख़िल होंगे. ये देश अब किसानों की ताक़त देखेगा.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Wednesday, March 3Tisari Aankh
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Breaking news
अलवर: अलवर जिले में नाबालिग बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार, 100 दिन बाद भी आरोपी खुलेआम घूम रहे है। इंसाफ नही मिलने पर राष्ट्रपति से इच्छामृत्यु की अपील। आम आदमी पार्टी पीड़ित को न्याय दिलाने, आरोपियों को फांसी की सजा के साथ ही जांच और गिरफ्तारी में हुई देरी के लिए ज़िम्मेदार अधिकारियों को बर्खास्त करने की मांग करती है। *अलवर* *भिवाड़ी में देसी और अंग्रेजी शराब बनाने का भंडाफोड़, बनाई गई अवैध शराब को शराबबंदी वाले राज्यों में किया जाता था सप्लाई, फूलबाग थाना पुलिस ने पूरी फैक्ट्री को किया सीज, पुलिस ने आरोपियों को भी किया गिरफ्तार, कुछ देर बाद पुलिस अधीक्षक करेंगे मामले का खुलासा*